Government SchemeStartup InvestmentTrending

Jan Aushadhi Kendra Yojana: जन औषधि केंद्र शुरू करने के लिए 5 लाख रुपये तक की आर्थिक सहायता, जल्द से जल्द योजना का लाभ उठाएं…

Jan Aushadhi Kendra Yojana: जैसा कि हम सभी जानते हैं कि हमारे देश के बहुत से नागरिक आर्थिक रूप से कमजोर हैं। ऐसे सभी नागरिकों के लिए महंगी दवाएँ खरीदना संभव नहीं है। सरकार द्वारा सभी कमजोर नागरिकों के लिए पीएम जन औषधि केंद्र खोलने का निर्णय लिया गया है। कम कीमत पर जेनेरिक दवा प्राप्त करने के लिए इस केंद्र की जाँच करें। इस लेख के माध्यम से आपको प्रधान मंत्री जन औषधि केंद्र की पूरी जानकारी मिलेगी।

भारत सरकार ने प्रधानमंत्री जन औषधि केंद्र योजना शुरू

भारत सरकार ने प्रधानमंत्री जन औषधि केंद्र योजना शुरू की है। यह योजना आर्थिक रूप से कमजोर नागरिकों के लिए शुरू की गई है। जन औषधि केंद्र के माध्यम से नागरिकों को कम कीमत पर जेनेरिक दवाएं उपलब्ध कराई जाएंगी।

ये दवाएं ब्रांडेड दवाओं जितनी ही प्रभावी होंगी। फार्मा एडवाइजरी फोरम ने 23 अप्रैल 2008 को हुई बैठक में इस योजना को लॉन्च करने का निर्णय लिया। इस योजना के तहत प्रत्येक जिले में एक आउटलेट खोलने का निर्णय लिया गया। ये केंद्र देश के 734 जिलों में शुरू किये जायेंगे.

Jan Aushadhi Kendra Yojana की विशेषताएं और लाभ :

प्रधानमंत्री जन औषधि योजना (पीएमजेएवाई) भारत सरकार की एक महत्वपूर्ण पहल है जिसका उद्देश्य नागरिकों को सस्ती और गुणवत्तापूर्ण जेनेरिक दवाएं उपलब्ध कराना है। यहां इसकी कुछ प्रमुख विशेषताएं और लाभ दिए गए हैं:

  • पीएमजेएवाई में विभिन्न स्वास्थ्य स्थितियों और बीमारियों की पूर्ति के लिए आवश्यक दवाओं की एक विस्तृत श्रृंखला शामिल है।
  • सस्ती दवाएं: पीएमजेएवाई ब्रांडेड विकल्पों की तुलना में काफी कम कीमतों पर उच्च गुणवत्ता वाली जेनेरिक दवाओं तक पहुंच सुनिश्चित करती है, जिससे मरीजों पर वित्तीय बोझ कम होता है।
  • पीएमजेएवाई के माध्यम से जेनेरिक दवाओं का विकल्प चुनकर मरीज स्वास्थ्य देखभाल खर्च पर पर्याप्त राशि बचा सकते हैं।
  • यह योजना विशेष रूप से वंचित और हाशिए पर रहने वाले समुदायों के लिए आवश्यक दवाओं तक पहुंच बढ़ाती है।
  • सस्ती दवाओं का मतलब उपचार के नियमों का बेहतर पालन है, जिससे स्वास्थ्य परिणामों में सुधार होता है।
  • PMJAY समाज के विभिन्न क्षेत्रों में स्वास्थ्य सेवा पहुंच और गुणवत्ता में असमानताओं को कम करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है।
  • व्यापक नेटवर्क: इस योजना में देश भर में जन औषधि केंद्रों (जेएके) का व्यापक नेटवर्क है, जो दूरदराज के इलाकों में भी दवाओं को सुलभ बनाता है।
  • गुणवत्ता आश्वासन: योजना के तहत उपलब्ध दवाओं की गुणवत्ता की कड़ी जांच की जाती है, जिससे मरीजों को उनकी सुरक्षा और प्रभावकारिता का आश्वासन मिलता है।Jan Aushadhi Kendra Yojana

जन औषधि स्टोर के लिए आवेदन करने की पात्रता :

  • आप PM-JAY केंद्र खोलने के पात्र हैं यदि: आप एक पंजीकृत डॉक्टर या पंजीकृत मेडिकल प्रैक्टिशनर हैं। आपके पास फार्मेसी (बी.फार्मा या डी.फार्मा) में डिग्री है। वैकल्पिक रूप से, यदि आप फार्मेसी डिग्री धारक नहीं हैं, तो आप तब भी आवेदन कर सकते हैं यदि आप अपनी टीम में एक योग्य फार्मेसी डिग्री धारक को नियुक्त करते हैं। ये पात्रता मानदंड यह सुनिश्चित करते हैं कि स्टोर का प्रबंधन आवश्यक चिकित्सा या फार्मास्युटिकल ज्ञान और योग्यता वाले व्यक्तियों द्वारा किया जाता है, जो समुदाय को प्रदान की जाने वाली दवाओं की गुणवत्ता और विश्वसनीयता की गारंटी देता है।

केंद्र खोलने के लिए सरकार कितना पैसा देगी?

  • सरकार जन औषधि केंद्र संचालकों को 4 लाख रुपये तक की सहायता देती है. यह सहायता राशि केंद्र की ओर से की गई मासिक खरीद का 15% होती है, जिसकी अधिकतम सीमा 15,000 रुपये प्रति माह है।
  • महिला उद्यमी, दिव्यांग, अनुसूचित जाति, अनुसूचित जनजाति, भूतपूर्व सैनिक, आकांक्षी दिला, उत्तर-पूर्वी राज्य, हिमालय पर्वतीय क्षेत्र, द्वीप समूह में अधिसूचित आवेदकों को 2 लाख रुपये की सहायता मिलती है । यह वित्तीय सहायता आईटी और इन्फ्रा खर्च के लिए प्रतिपूर्ति के रूप में एकमुश्त दिया जाता है।

प्रधानमंत्री जन औषधि केंद्र कैसे खोलें?

  • प्रधानमंत्री जन औषधि केंद्र (पीएमजेएके) खोलना आपके समुदाय को सस्ती और गुणवत्तापूर्ण जेनेरिक दवाएं उपलब्ध कराने का एक नेक प्रयास है।
  • यहां बताया गया है कि आप कैसे शुरुआत कर सकते हैं: यदि आप पात्रता आवश्यकताओं को पूरा करते हैं, तो आप आज ही ऑनलाइन आवेदन कर सकते हैं।
  • ऑफ़लाइन आवेदन: बीपीपीआई वेबसाइट से पीएमजेएके आवेदन पत्र डाउनलोड करें।
  • फॉर्म में अपनी व्यक्तिगत और व्यावसायिक जानकारी सहित आवश्यक विवरण भरें। आवेदन में निर्दिष्ट आवश्यक दस्तावेज संलग्न करें।
  • भरे हुए आवेदन पत्र और दस्तावेजों को BPPI द्वारा दिए गए पते पर भेजें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Related Articles